BREAK NEWS

मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन की बड़ी मांग सिनेमाघर ना खुलने तक प्रोड्यूर्स न करे फिल्मे रिलीज़

मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन की बड़ी मांग सिनेमाघर ना खुलने तक प्रोड्यूर्स न करे फिल्मे रिलीज़

कोरोना वायरस की वज़ह से सिनेमाघर लंबे समय से बंद हैं। इसके प्रभाव की वज़ह से फ़िल्मों को ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर रिलीज़ करने की चर्चा भी है। इस बीच मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (MAI) ने स्टूडियो पार्टनर, प्रोड्यूसर्स, आर्टिस्ट से एक अपील की है। उन्होंने गुहार लगाई है कि लोग फ़िल्मों की रिलीज़ से रोक लें और तब रिलीज़ करें, जब थिएटर्स वापस से खुल जाएं

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, एमएआई ने प्रोड्यूसर्स से अपील की है कि एक्सक्लूसीव थिएर्टिकल विडों का सम्मान करें। एमएआई ने अपने बयान में लिखा, ‘एमएआई सभी स्टूडियो पार्टनर, प्रोड्यूसर्स, आर्टिस्ट और कंटेंट क्रिएटर्स से अपील करता है कि वे सिनेमा एक्जीबीशन सेक्टर को सपोर्ट करें। इस कड़ी में सबसे महत्वपूर्ण यह है कि वे अपनी फ़िल्म की रिलीज़ को तब तक रोकें, जब तक सारे सिनेमा घर फिर खुल नहीं जाते।’

उन्होंने आगे लिखा, ‘इसके अंत में हम सभी स्टूडियो पार्टनर, प्रोड्यूसर्स, आर्टिस्ट और कंटेंट क्रिएटर्स से अपील करते है कि वे सालों से चली आ रही प्रथा, एक्सक्लूसीव थिएर्टिकल विडों का सम्मान करें। भारत समेत दुनियाभर के सभी स्टेकहोल्डर्स इस बात को मानते चले आ रहे हैं।’

लक्ष्मी बॉम समेत कई फ़िल्मों को लेकर चर्चा

मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया का बयान इन सबके बीच आया है, जब कुछ बड़ी फ़िल्मों को नेटफ्लिक्स जैसे ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर रिलीज़ करने की चर्चा है। मिड डे की एक रिपोर्ट के अनुसार, लक्ष्मी बॉम्ब के मेकर्स फिल्म को डिजनी+हॉटस्टार पर रिलीज कर सकते हैं। ‘गुलाबो सिताबो’ को लेकर भी ऐसी चर्चा है। शूजित सरकार ने मुंबई मिरर से कहा था कि जरूरत पड़ी तो मैं डिजिटल रिलीज के लिए तैयार हूं। हालांकि, 83 और सूर्यवंशी को लेकर रिलायंस एंटरटनमेंट इस बात से इनकार कर चुका है।

क्या है एमएआई

मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया साल 2002 में फिक्की के तत्वावधान में स्थापित राष्ट्रीय मल्टीप्लेक्स व्यापार निकाय के तहत काम करता है। यह PVR, INOX, कार्निवल और सिनेपोलिसस समेत करीब 2900 स्क्रीन का प्रतिनिधित्व करता है।

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )