BREAK NEWS

निर्भया केस:लगातार 20 मार्च तक किया जायेगा आरोपियों का वजन,

देश को चौका देने वाला निर्भया गैंगरेप और उसकी हत्या के चारो आरोपियों को पटियाला हाउस कोर्ट ने फांसी की सज़ा का एलान कर दिया है देश में रहने वाले सभी लोगो को 20 मार्च का बेसब्री से इंतज़ार है जब निर्भाय के गुनहगारों को फांसी पर लटकाया जाएगा। वहीं निर्भया के चारों दोषियों की फांसी की तारीख तय हो जाने के बाद अब 20 मार्च की सुबह 6 बजे फांसी देने तक सभी का वजन रोजाना किया जाएगा।

दरअसल, फांसी की सजा पर अमल तभी हो सकेगा जब ये शारीरिक व मानसिक तौर पर पूरी तरह फिट रहेंगे। स्वास्थ्य जांच के दौरान इनके वजन पर भी नजर रखी जा रही है। वजन के हिसाब से यह तय होगा कि किस दोषी को फंदे से कितना नीचे लटकाया जाएगा। नियमों के मुताबिक कम वजन के दोषियों को ज्यादा वजन वाले की तुलना में अधिक नीचे लटकाया जाता है।

निर्भया के दोषियों के नाम चौथी बार डेथ वारंट जारी होने के साथ ही जेल संख्या-तीन में फांसी से जुड़ी औपचारिकताओं का दौर शुरू हो गया। दोषियों की रोजाना स्वास्थ्य जांच व काउंसलिंग के नतीजों पर रिपोर्ट तैयार होगी। अंतिम मुलाकात से जुड़ी प्रक्रिया की शुरुआत होगी। अभी तीन मार्च को ही तिहाड़ से अपने शहर रवाना हुए जल्लाद को एक बार फिर से बुलावा भेजा जाएगा। तमाम जरूरी औपचारिकताएं इसके पहले तीन बार जारी डेथ वारंट के दौरान भी पूरी की गई थी। लेकिन जल्लाद की उपस्थिति में फांसी का ट्रायल तीन बार नहीं बल्कि दो ही बार किया गया।

जल्लाद की मौजूदगी में होगा फांसी का ट्रायल-
जेल मैन्युअल के हिसाब से जल्लाद की उपस्थिति में फांसी का ट्रायल जरूरी है। पहली बार सात जनवरी को जब दोषियों के नाम से डेथ वारंट जारी हुआ था तब जेल में फांसी का ट्रायल किया गया था, लेकिन ट्रायल में लीवर दबाने का कार्य जल्लाद ने नहीं बल्कि जेलकर्मियों ने ही किया था, लेकिन इसके बाद दूसरी और तीसरी बार जल्लाद भी ट्रायल का हिस्सा बना। चौथी बार भी जल्लाद की उपस्थिति में ही फांसी का ट्रायल किया जाएगा।

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )