BREAK NEWS

ऐतिहासिक व पौराणिक श्री त्रिपुरारि कुंड के सौंदर्यीकरण व जीर्णोद्धार के लिए सौंपा ज्ञापन

ऐतिहासिक व पौराणिक श्री त्रिपुरारि कुंड के सौंदर्यीकरण व जीर्णोद्धार के लिए सौंपा ज्ञापन

कुंड के पास स्थित 110 नंबर अंकित शिलालेख पर अंकित है श्री त्रिपुरारि जी

श्री अंबिका सोशल वेलफेयर सोसाइटी अयोध्या ने सौंपा ज्ञापन

अयोध्याl श्री अंबिका सोशल वेलफेयर सोसाइटी अयोध्या के अध्यक्ष पंकज कुमार श्रीवास्तव के नेतृत्व में अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष डॉक्टर नीरज शुक्ला को एक ज्ञापन सौंपकर श्री त्रिपुरारी कुंड एवं मंदिर का सौन्दर्याीकरण एवं जीर्णोद्धार कराये जाने के संबंध में मांग की गई जिस पर उपाध्यक्ष डॉक्टर शुक्ला ने कहा कि जल्द ही इस पौराणिक स्थल को योजना में शामिल कर लिया जाएगा और इसका सौन्दर्याीकरण कराया जाएगा l उपाध्यक्ष को संबोधित ज्ञापन में कहा गया है कि
आप अवगत ही हंै कि गत 05 अगस्त 2020 को देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 05 शताब्दियों से प्रतीक्षित अयोध्या में मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम के मन्दिर निर्माण का भूमि पूजन हुआ और जल्द ही मंदिर निर्माण कार्य पूर्ण भी हो जाएगा। इसके साथ ही अयोध्या एक विस्तारित पर्यटन नगरी के रूप में पूरे देश विदेश में अपना परचम लहराएगी। इसी क्रम में पुराणों में वर्णित पौराणिक स्थलों का सौंदर्याीकरण भी कराया जा रहा है l श्री श्रीवास्तव ने कहा कि आपको अवगत कराना है कि एडवर्ड तीर्थ विवेचनी सभा द्वारा अयोध्या शहर से मात्र 8 किलोमीटर के दायरे में व सूर्य कुंड से 2 किलोमीटर स्थित तिहुरा उपरहार, दर्शननगर जनपद अयोध्या के110 नम्बर अंकित श्री त्रिपुरारि कुण्ड आज भी लोगों द्वारा अवैध अतिक्रमण एवं पर्यटन विभाग की उदासीनता के कारण मात्र एक छोटे से तालाब के रूप में दर्ज है। श्री अम्बिका सोशल वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष पंकज कुमार श्रीवास्तव और महासचिव अधिवक्ता शीतला प्रसाद के अनुसार इस स्थल का महात्म स्कंद पुराण के वैष्णव खण्ड एव रूद्रयामल जैसे वैदिक ग्रन्थों में वर्णित है। लोकोक्ति है कि ़त्रेतायुग में भगवान राम जन्म के समय भगवान शिव एवं माता पार्वती कैलाश पर्वत से अयोध्या आए और अपने पहचान को गुप्त रखने के लिए नगर स्थिति दक्षिण- पूर्व छोर पर इसी स्थान पर वास किया और वहीं से भगवान राम के बाल रूप का दर्शन करते रहे। लोकोक्ति यह भी है कि दो हजार वर्ष पूर्व महाराजा विक्रमादित्य ने श्री त्रिपुरारी महादेव मंदिर का जीर्णोद्धार कराया, यह मन्दिर जीवंत आस्था का परिचायक है और और इस मंदिर पर कार्तिक पूर्णिमा व शिवरात्रि के अवसर पर उत्सव आज भी मनाया जाता है। जहंा पर हजारों भक्तों का भगवान श्री त्रिपुरारि को अभिषेक करने का तांता लगा रहता है। समिति की तरफ से भी हर वर्ष साफ सफाई व भंडारे का आयोजन किया जाता है। इतने बड़े आस्था व पौराणिक केन्द्र होने के बावजूद शहर से 09 किलोमीटर दूर स्थित श्री त्रिपुरारि कुण्ड आज भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्राथमिकता के बावजूद पर्यटन विभाग की उदासीनता का शिकार है। ज्ञापन में मांग की गई है कि पौराणिक श्री त्रिपुरारी कुण्ड मन्दिर स्थित तिहुरा उपरहार, दर्शननगर जनपद अयोध्या के सौन्दर्याीकरण एवं जीर्णोद्धार कराये जाने का कष्ट करें। श्री अंबिका सोशल वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष पंकज कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष डॉक्टर नीरज शुक्ला से श्री त्रिपुरारी कुंड व मंदिर की पौराणिकता के संबंध में विस्तृत बताया गया जिस पर उन्होंने कहा कि जल्द ही स्थल का निरीक्षण कर उसके ऐतिहासिकता और पौराणिकता का आकलन का उचित कार्यवाही की जाएगीीlश्री श्रीवास्तव ने बताया कि इससे पूर्व अयोध्या नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय को भी ऐसा हीीीीी ज्ञापन दिया जा चुका हैl

REPORT BY : AKHILESH DUBE
UPDATE BY : ANJALI CHAUHAN

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )