BREAK NEWS

लू के थपेड़ों से जीना मुहाल अगले कुछ घंटो में यहाँ हो सकती है तेज़ बारिश

लू के थपेड़ों से जीना मुहाल अगले कुछ घंटो में यहाँ हो सकती है तेज़ बारिश

भारत में गर्मी के मौसम में कई राज्यों में स्थितियां भयावह हो रही हैं। उत्तर भारत समेत देश के कई स्थानों पर कल कुछ राहत मिलने की उम्मीद है। मौसम विभाग की ताजा जानकारी के मुताबिक अगले कुछ घंटों में मथुरा, डीग (राजस्थान), भरतपुर, आगरा, टुंडला, फिरोजाबाद, एटा, और करनाल में गरज, चमक के साथ हल्की बारिश हो सकती है।

मौसम विभाग के अनुसार उत्तर भारत के कई हिस्सों में वेस्टर्न डिस्टरबेंस (पश्चिमी विक्षोभ) के कारण 28 से 30 मई को तापमान में गिरावट आ सकती है। इस दौरान कई जगहों पर धूलभरी आंधी के आसार हैं। बता दें कि पश्चिमी विक्षोभ मेडिटेरेनियन सागर में चक्रवातों की वजह से पैदा होता है और गर्म हवाओं के मध्य एशिया से गुजरने के बाद यह हिमालय की बर्फीली चोटियों से टकराती हैं, जिससे पहाड़ी और मैदानी इलाकों में बारिश की स्थितियां पैदा होती हैं।

आईएमडी ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में मानसून आगे बढ़ा है। लेकिन उत्तर-पश्चिम में सूखी हवाओं के कारण उत्तर-पश्चिम और मध्य भारत में तापमान कई जगह बढ़ सकता है। खासकर पश्चिमी राजस्थान और विदर्भ में हालात काफी खराब हो सकते हैं। इसके अलावा हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पूर्वी राजस्थान और बिहार, पंजाब, झारखंड, ओडिशा के कुछ इलाकों में भारी गर्मी के आसार हैं।

जहां एक तरफ पूरे उत्तर भारत में गर्मी का प्रकोप है। वहीं, नॉर्थईस्ट में लोगों को चक्रवाती तूफान और बाढ़ जैसी स्थितियों से दो-चार होना पड़ रहा है। असम में भारी बारिश की वजह से कई जगहों पर बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है। यहां का कामरूप जिला बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित है। वहीं मेघालय में चक्रवाती तूफान से रेड अलर्ट घोषित हो गया है। पिछले 36 घंटे में स्थितियां बद्तर हुई हैं। अब तक 21 गांवों और 1493 लोगों पर तूफान का असर हुआ है। ऐसे में राज्य में हाई-अलर्ट घोषित किया गया है।

28 मई की रात से कुछ राहत मिलेगी। पश्चिमी विक्षोभ उत्तर-पश्चिम भारत को प्रभावित करेगा और पुरवैया हवाएं वायुमंडल में निचले स्तरों पर चलेंगी। धूलभरी आंधी और गरज के साथ 50-60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की संभावना है। मौसम विभाग ने मंगलवार को असम और मेघालय में 26-28 मई को भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

भारतीय मौसम विभाग ने कहा है कि मॉनसून केरल तट चार-पांच दिन देर से पहुंचने वाला है और यह 5 जून तक केरल में दस्तक दे सकता है और फिर धीरे-धीरे देश के पूरे हिस्से में पहुंचेगा।

मौसम विभाग के अनुसार, मुंबई में मॉनसून 15 से 20 जून के बीच दस्तक देगा। तबतक मुंबई वालों को उमस वाली गर्मी झेलनी पड़ेगी।

मध्य प्रदेश में भी गर्मी से लोग बेहाल हैं। खजुराहों में मंगलवार को सबसे ज्यादा 47 डिग्री पारा दर्ज किया गया, जबकि ग्वालियर में यह 44 डिग्री रहा। मॉनसून की बात करें तो मध्य प्रदेश में 15 से 20 जून के बीच इसके पहुंचने का अनुमान। छत्तीसगढ़ में भी मॉनसून 15 से 20 जून के बीच दस्तक दे सकता है।

मौसम विभाग ने इस बार देश में सामान्य मॉनसून की भविष्यवाणी की है। IMD के अनुसार, मॉनसून अब 20 मई के बजाए 22 मई को अरब सागर में पहुंचेगा। पिछले साल 20 मई तक मॉनसून हवाएं पहुंच गई थीं हालांकि बाद में वह एक सप्ताह तक वहीं रुकी रहीं और देश में मॉनसून में देरी हुई थी।

मौसम विभाग के वैज्ञानिक राजेंद्र कुमार जेनामणि ने बातया कि अच्छी बात ये है 28 मई से उत्तर में पूर्वी हवाएं चलने वाली है। उसके बाद भीषण गर्मी का कहर कम होना शुरू हो जाएगी और 29 से उत्तरी भारत के इलाकों को राहत मिलेगी जबकि मध्य भारत, महाराष्ट्र के आंतरिक इलाकों में गर्मी का असर लंबे समय तक जारी रहेगी।

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )