BREAK NEWS

एयरलाइन टिकट 25 मार्च से 14 अप्रैल के बीच की है बुक तो मिलेगा रिफंड

एयरलाइन टिकट 25 मार्च से 14 अप्रैल के बीच की है बुक तो मिलेगा रिफंड

कोरोना लॉकडाउन फेज-2 में भी पूरे देश में तीन मई तक ट्रेन, प्लेन, बस, अन्य पब्लिक ट्रांसपोर्ट और मेट्रो सेवा पर रोक है। सभी एयरलाइन ने भी टिकट कैंसल किया है हालांकि वह रिफंड नहीं कर रही है। इसके बदले वह क्रेडिट दे रही है। नागर विमान मंत्रालय ने रिफंड को लेकर दिशा-निर्देश जारी किया है। ताजा जानकारी के मुताबिक अगर किसी पैसेंजर ने 25 मार्च से 14 अप्रैल के बीच टिकट बुक किया होगा तो एयरलाइन पूरा अमाउंट रिफंड करेगी। नागर विमान मंत्रालय ने कैंसल रिक्वेस्ट डालने के तीन सप्ताह के भीतर रिफंड करने का निर्देश जारी किया है।

कई लोगों ने सोशल मीडिया पर शिकायत की थी कि घरेलू एयरलाइन लॉकडाउन के कारण रद्द हुए टिकटों का रिफंड नकद में नहीं दे रहीं और इसके बजाए क्रेडिट के रूप में दे रही हैं जिनका इस्तेमाल आगे की यात्राओं के लिए किया जा सकता है।

लॉकडाउन की अवधि बढ़ने के बाद ही विमानन कंपनियों ने ग्राहकों के लिए टिकट रद कराने की सुविधा शुरू की है। लेकिन उन्होंने कहा है कि वे ग्राहकों को टिकट की रकम वापस नहीं करेंगी। इसके बदले वे बाद की किसी तिथि के लिए बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के यात्रा की सुविधा देंगी। सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया को छोड़ अन्य सभी कंपनियों ने 14 अप्रैल को लॉकडाउन की अवधि खत्म होने के बाद के दिनों के लिए घरेलू उड़ानों की टिकट बुकिंग स्वीकार की थी, लेकिन सरकार ने लॉकडाउन की अवधि तीन मई तक के लिए बढ़ा दी।

विस्तारा के एक प्रवक्ता ने कहा कि उसके यात्री इस वर्ष के अंत तक बिना किसी शुल्क के यात्रा तिथि और गंतव्य में परिवर्तन कर सकते हैं। गोएयर के एक प्रवक्ता का कहना था कि कंपनी के सामने पहले भी ऐसी परिस्थितियां आई हैं। हम पहले की ही तरह एक वर्ष के लिए यात्रियों को बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के यात्रा की तिथि और गंतव्य में बदलाव की सुविधा देंगे। इंडिगो ने बताया कि उसके यात्री एक वर्ष बाद तक की तिथि के लिए बुकिंग में बदलाव कर सकते हैं।

विमानन कंसल्टेंसी सेवा देने वाले सेंटर फॉर एशिया पैसिफिक एविएशन यानी कापा ने कहा था कि लॉकडाउन की अवधि बढ़ने को लेकर कोई घोषणा होने से पहले ही विमानन कंपनियों द्वारा बुकिंग शुरू कर लेना अनुचित है। कापा ने नागरिक विमानन मंत्रालय से आग्रह किया था कि कंपनियों को ऐसा करने से रोका जाए। हालांकि लॉकडाउन अवधि बढ़ाने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद विमानन नियामक डीजीसीए ने सभी परिचालन तीन मई तक स्थगित रखने का निर्देश जारी किया था।

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )