BREAK NEWS

यूपी की अर्थव्यवस्था का नया केंद्र बनेगी अयोध्या

यूपी की अर्थव्यवस्था का नया केंद्र बनेगी अयोध्या

राममंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन के साथ यूपी की वैश्विक पहचान और अर्थव्यवस्था को नया आयाम मिलने की उम्मीदें बढ़ गई हैं। इस मौके पर राज्य या केंद्र सरकार की ओर से एहतियातन किसी नई विकास योजना का एलान तो नहीं किया गया, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिस तरह इस क्षेत्र के विकास की रूपरेखा का संकेत किया है, उससे अवध व उसके आसपास के क्षेत्र की आर्थिक प्रगति का रास्ता खुलता नजर आ रहा है। जिस तरह आगरा एक पर्यटन केंद्र के रूप में विख्यात होकर राज्य की अर्थव्यवस्था में तीसरे स्थान का योगदान कर रहा है, उसी तरह अयोध्या यूपी की अर्थव्यवस्था का नया केंद्र बन सकता है।

वर्तमान में यूपी की अर्थव्यवस्था में अयोध्या का योगदान नाम मात्र का है। प्रदेश में जब भी निवेश और अर्थव्यवस्था की बात होती है, लोग एक बात अक्सर कहते सुने जाते हैं कि दुनिया के लोग ताजमहल की वजह से आगरा को तो जानते हैं, लेकिन उन्हें यह तक पता नहीं कि ताजमहल यूपी में है। 

अभी प्रदेश की अर्थव्यवस्था में 40वें पायदान पर-
प्रदेश की अर्थव्यवस्था में पश्चिम के गौतमबुद्ध नगर जिले का सबसे बड़ा योगदान है। यह जिला 1,53,262.92 करोड़ के सकल जिला घरेलू उत्पाद के साथ प्रदेश की अर्थव्यवस्था में 9.19 प्रतिशत के योगदान के साथ शीर्ष पर है। यहां के लोगों की प्रति व्यक्ति वार्षिक औसत आय 6,71,208.60 रुपये है। लेकिन प्रदेश में पर्यटन की दृष्टि से सबसे अच्छी स्थिति आगरा की है। 57175.42 करोड़ के सकल जिला घरेलू उत्पाद के साथ प्रदेश की अर्थव्यवस्था में  3.43 प्रतिशत योगदान के साथ तीसरा स्थान है। वाराणसी भी पर्यटन का एक मुख्य केंद्र है। यह राज्य की अर्थव्यवस्था में 1.58 प्रतिशत योगदान करके 18 वें पायदान पर है। इसके उलट अयोध्या 15,567.56 करोड़ के सकल जिला घरेलू उत्पाद के साथ अर्थव्यवस्था में मात्र 0.93 प्रतिशत योगदान कर पाता है। यहां के लोगों की प्रति व्यक्ति आय 50,460.84 रुपये पर अटकी है और यह 40वें पायदान पर है।

UPDATE BY : ANKITA

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )