BREAK NEWS

काशी में मंगला आरती के बाद गौरा के गौना का अनुष्ठान शुरू, शाम को निकलेगी बाबा की पालकी शोभायात्रा

काशी में मंगला आरती के बाद गौरा के गौना का अनुष्ठान शुरू, शाम को निकलेगी बाबा की पालकी शोभायात्रा

वाराणसी : रंगभरी एकादशी पर बुधवार को ब्रह्म मुहूर्त में महंत आवास पर पूजन आरंभ हो गया। वाराणसी के टेढ़ीनीम स्थित महंत आवास पर बाबा विश्वनाथ एवं माता गौरा की रजत चल प्रतिमा का पालकी दर्शन पूर्वान्ह आरती के उपरांत आरंभ हुआ। महंत डॉक्टर कुलपति तिवारी ने बाबा और गौरा की कपूर आरती की। ब्रह्म मुहूर्त में 11 बजे ब्राह्मणों ने विशिष्ट अनुष्ठान का आरंभ किया।

बाबा को पंचामृत स्नान कराने के उपरांत समस्त वैदिक विधान शिव आचार्य पंडित ज्योति शंकर त्रिपाठी एवं श्रीशंकर त्रिपाठी धन्नी महाराज के संयुक्त आचार्यत्व में हुआ। पूजन अनुष्ठान के बाद बाबा का दूल्हा के स्वरूप में श्रृंगार आचार्य सुशील त्रिपाठी एवं संजीव रतन मिश्र ने किया।

शाम को पौने पांच बजे महंत आवास से बाबा की पालकी शोभायात्रा निकाली जाएगी। उधर, रंगभरी एकादशी को लेकर कलाकारों के साथ ही अन्य लोग तैयारियों को अंतिम रूप देने में लगे रहे। रंगभरी एकादशी पर बुधवार को महंत आवास से लेकर काशी की गलियों तक रंग और गुलाल उड़ाया जाएगा।

रंगभरी एकादशी की पूर्व संध्या पर मंगलवार को गौरा का गौना कराने काशी पुराधिपति गाजे बाजे संग ससुराल पहुंचे थे। महंत आवास पर बाबा की बरात के पहुंचने के बाद यहां मेवा, फल, रंगभरी ठंडई से पारंपरिक स्वागत किया गया।

मंगलवार को गौना कराने के लिए बाबा के आगमन पर शिवाचार्य पं ज्योतिशंकर त्रिपाठी और श्रीशंकर त्रिपाठी के आचार्यत्व में अनुष्ठान कराया गया। काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत डॉ. कुलपति तिवारी के सानिध्य में भी अनुष्ठान हुए। परंपरा के अनुसार बाबा विश्वनाथ, माता पार्वती की गोद में भगवान गणेश की रजत प्रतिमाओं को विराजमान कराने, पूजन के बाद भोग लगाया गया। ससुराल में बाबा का महिलाओं और कलाकारों ने मंगल गीत और भावपूर्ण लोकनृत्यों से स्वागत किया। इस दौरान गौना के बधाई गीत भी गुंजायमान हुए। श्रीकाशी विश्वनाथ महाकाल डमरू सेवा समिति के सदस्यों ने मनोज अग्रहरि के नेतृत्व में डमरू बजाकर स्वागत किया।

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )