BREAK NEWS

अन्य देशो के मुकाबले भारत में कोरोना संक्रमित हो रहे है ठीक

अन्य देशो के मुकाबले भारत में कोरोना संक्रमित हो रहे है ठीक

देश में कोरोना वायरस से निपटने और लॉकडाउन की स्थिति को लेकर शुक्रवार को स्‍वास्‍थ्‍य और गृह मंत्रालय की संयुक्‍त प्रेस कांफ्रेंस में हुई। इस मौके पर स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि एक अप्रैल से अब तक कोरोना के संक्रमण के बढ़ने की दर में 40 फीसद कमी आई है। अन्‍य देशों के मुकाबले हमारे यहां कोरोना के 80 फीसद मरीज ठीक हो रहे हैं। दूसरे देशों के मुकाबले कोरोना संक्रमण रोकने में भारत की स्थिति बेहतर है।

उन्‍होंने कहा कि लॉकडाउन से पहले COVID19 के मामलों की दोगुना होने के रेट लगभग 3 दिन लग रहे थे, पिछले 7 दिनों के आंकड़ों के अनुसार मामलों को दोगुना होने की दर में अब 6.2 दिनों की है। 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में तो दोगुना होने की दर देश की दोगुना होने की दर से भी कम है। जिन 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में दोगुना होने की दर देश की दोगुना होने की दर से कम है, उसमें- केरल, उत्तराखंड, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़, लद्दाख, पुड्डुचेरी, दिल्ली, बिहार, ओडिशा, तेलंगाना, तमि‍लनाडु, आंध्र प्रदेश, यूपी, कर्नाटक, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, असम और त्रिपुरा शामिल हैं।

उन्‍होंने कहा कि रैपिट टेस्‍ट के लिए पांच लाख किट राज्‍यों को बांटी जा रही है। मई तक दस लाख रैपिड टेस्‍ट होंगे। अन्‍य देशों के मुकाबले हमारे यहां कोरोना के 80 फीसद मरीज ठीक हो रहे हैं। देश में अब तक 1919 अस्‍पताल बनाए जा चुके हैं। 1.73 लाख आइसोलेशन बेड तैयार किए जा रहे हैं।

उन्‍होंने कहा कि हमें हर मोर्चे पर कोरोना से लड़ना है, कोशिश की जा रही है कि इसकी वैक्सीन जल्द तैयार हो। उन्‍होंने कहा कि अब तक 1749 लोग ठीक हो चुके हैं। देश में मामलों की कुल संख्या 13,387 है। पिछले एक दिन में 1007 नए मामले सामने आए हैं, पिछले 24 घंटे में 23 नई मौतें भी हुई हैं। आइसीएमआर के रतन गंगाखेडकर ने कहा कि अब तक COVID-19 के 3,19,400 टेस्‍ट किए गए हैं। गुरुवार को 28,340 टेस्‍ट किए गए। उन्‍होंने कहा कि यह वायरस भारत में 3 महीने के लिए है, उत्परिवर्तन (म्‍यूटेशन) बहुत जल्दी नहीं होता है। अब जो भी वैक्सीन निकलेगी, वह भविष्य में भी काम करेगी (यदि वायरस म्यूट करता है)।

COVID19 से लड़ने के लिए बीसीजी वैक्सीन के उपयोग के सवाल पर उन्‍होंने कहा कि आईसीएमआर अगले सप्ताह एक अध्ययन शुरू करेगा। जब तक हमारे पास इसके निश्चित रिजल्‍ट नहीं होंगे, तब तक हमने स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए भी इसकी सिफारिश नहीं की।

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )